भारतीय संस्कृति के पुन: निर्माण के लिए जनकार्यक्रम

हमारे बारे में

हमारे बारे में

राष्ट्रीय संस्कृति कोष (एन सी एफ) की स्थापना भारत में कलाओं और संस्कृति के लिए वित्तपोषण(फंडिंग) के विद्यमान स्रोतों और पद्धतियों से एक अलग वित्तपोषण तंत्र के रूप में की गई थी। यह कोष संस्थाओं तथा व्यक्तियों को उनकी सरकारों के साथ भागीदार के रूप कलाओं तथा संस्कृतियों के प्रोत्साहन के लिए सहायता करने योग्य बनाएगा।

भारत सरकार ने राष्ट्रीय संस्कृति कोष (एन सी एफ) की स्थापना चैरीटेबल एंडोमेंट अधिनियम, 1890 के अंतर्गत दिनांक 28.11.1996 के राजपत्र में प्रकाशित राजपत्रीय अधिसूचना के माध्यम से एक ट्रस्ट के रूप में की थी । एनसीएफ का प्रबंन्धन एक परिषद् और कार्यकारी समिति के द्वारा किया जाता है। इस परिषद की अध्यक्षता माननीय संस्कृति मंत्री के द्वारा की जाती है और इसमें कारपोरेट और लोक क्षेत्र, निजी संस्थाओं तथा गैर लाभकारी संस्थाओं के प्रतिनिधि सदस्य शामिल हैं। कार्यकारी समिति की अध्यक्षता माननीय सचिव, संस्कृति मंत्रालय द्वारा की जाती है।

भारत सरकार ने अगस्त तथा सितंबर 1998 के अपने आदेशों के माध्यम से यह अधिसूचित किया था कि राष्ट्रीय संस्कृति कोष को दान या चंदा के रूप में दी गई राशि आयकर अधिनियम की धारा 10 (23C) (iv) और 80 G(2) के तहत आयकर में छूट प्राप्त होगी। राष्ट्रीय संस्कृति कोष की स्थापना नवंबर 1996 में एक ट्रस्ट के रूप में की गई थी।

 

पीडीएफ डाउनलोड करें

राष्ट्रीय संस्कृति निधि